देश के मुक्त विवि को नैक फॉर्मेट में लाने की तैयारी

हल्द्वानी।

वर्तमान में दूरस्थ शिक्षा का महत्व बढ़ गया है। जनवरी से देश में ऑनलाइन शिक्षा को व्यापक रूप में शुरू करने की योजना है। साथ ही सभी मुक्त विवि को नैक फॉर्मेट में लाने की कोशिश की जाएगी। ये बातें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के दूरस्थ शिक्षा ब्यूरो के संयुक्त सचिव डॉ. अविचल कपूर ने कही।

हल्द्वानी के तीनपानी स्थित उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के 14वें स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर डॉ. कपूर ने दूरस्थ शिक्षा एवं मुक्त शिक्षा प्रणाली के इतिहास, वर्तमान परिदृश्य एवं भविष्य में चुनौतियों के बारे में बताया। कहा कि दूरस्थ शिक्षा का महत्व बढ़ने के साथ ही हमारी जिम्मेदारियां भी बढ़ गई हैं। दूरस्थ शिक्षा में इस सत्र में अब तक 21 लाख नए दाखिले लिए जा चुके हैं। इसमें से 70 फीसद दाखिले देश भर के 15 मुक्त विश्वविद्यालयों में हुए हैं। समारोह की अध्यक्षता करते हुए यूओयू के कुलपति प्रो. ओपीएस नेगी ने विवि की वर्तमान स्थिति व योजनाओं की जानकारी दी।

Advertisements