उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों के रिक्त पदो को भरने की कवायद शुरू

नई दिल्ली।

उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों के खाली पदों को भरने की राह के सभी रोड़े फिलहाल दूर हो गए हैं। ऐसे में अब भर्ती प्रक्रिया में तेजी आने की उम्मीद जगी है। इसी क्रम में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश के सभी केंद्रीय व राज्य विश्वविद्यालयों के साथ कालेजों और डीम्ड दर्जा वाले विश्वविद्यालयों से शिक्षकों के खाली पदों का ब्योरा मांगा है। ब्योरा देने की अंतिम तिथि 10 अगस्त तय की गई है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, अकेले केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब आठ हजार पद खाली हैं। दिल्ली व इलाहाबाद जैसे विश्वविद्यालयों में तो शिक्षकों के कुल स्वीकृत पदों के मुकाबले करीब आधे पद खाली हैं। राज्यों के विश्वविद्यालयों की भी स्थिति कमोवेश कुछ ऐसी ही है। सूत्रों का कहना है कि विवि में शिक्षकों के खाली पदों का ब्योरा आरक्षित सीटों के साथ सामने आने के बाद इस पर तेजी दिखेगी। वैसे भी यूजीसी अब इस मुद्दे पर फूंक-फूंककर कदम बढ़ाना चाहता है, ताकि भर्ती प्रक्रिया शुरू होने के बाद फिर कोई विवाद की स्थिति न पैदा हो।

Advertisements