मेडिकल में पहले वर्ष से क्लीनिकल की पढ़ाई

मेडिकल में पहले वर्ष से क्लीनिकल की पढ़ाई

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग ने एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में कई अहम बदलाव किए हैं। इसमें पहले चरण में पढ़ाए जाने वाले कुछ विषयों को अंतिम चरण में किया गया है। पहले साल में महामारी, क्लीनिकल एक्सपोजर व सामुदायिक चिकित्या में परिवारों को गोद लेने जैसे नए कार्यक्रम शामिल किए गए हैं। एनएमसी ने कहा कि नवंबर से शुरू हुए सत्र 2022-23 से नए सिलेबस को लागू कर दिया गया है। एमबीबीएस की करीब साढ़े चार साल की पढ़ाई चार सत्रों में पूरी होती है। पहले सत्र 15 दिसंबर 23 तक पूरा होगा।इसमें सबसे ज्यादा बदलाव किए गए हैं। इस चरण को फाउंडेशन कोर्स भी कहते हैं। इसमें पढ़ाए जाने वाले विषयों त्वचा रोग विज्ञान, रेडियोलॉजी, मनोरोग, एनेस्थेसिया तथा श्वसन चिकित्सा विषयों को चौथे चरण में शिफ्ट किया गया है। जबकि नाक, कान और गले तथा नेत्र चिकित्सा से जुड़े विषयों के घंटों को पहले चरण में छोटा किया गया है। विस्तृत पढ़ाई को अंतिम चरण में शामिल किया गया है। इसी प्रकार ईएनटी क्लीनिकल पोस्टिंग को दूसरे चरण में रखा गया है।

Advertisements