प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति में अब 9वीं व 10वीं के बच्चों को ही लाभ

प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति में अब 9वीं व 10वीं के बच्चों को ही लाभ

केंद्र सरकार ने पिछड़े और अल्पसंख्यक समुदायों के लिए अपनी प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना को 9वीं और 10वीं कक्षा के छात्रों तक सीमित कर दिया है। पहले कक्षा एक से आठ तक के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक समुदायों के बच्चों को यह छात्रवृत्ति मिलती थी। आदेश के मुताबिक, सरकार के लिए शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 हर बच्चे को मुफ्त व प्रारंभिक शिक्षा प्रदान करना अनिवार्य बनाता है। अधिकारियों को अब प्री-मैट्रिक छात्रवृति के तहत सिर्फ कक्षा नौंवी-दसवीं के लिए आवेदनों को सत्यापित करने के लिए कहा गया है।

Advertisements