उत्तराखण्ड बोर्ड के छात्रों को दाखिले के लिए करनी पड़ सकती मशक्कत

देहरादून।

उत्तराखण्ड में सभी बोर्डों के नतीजे आ चुके है। 12वीं पास हो चुके छात्रों के सामने अब दाखिले को लेकर नई चुनौती है। क्योंकि इस बार कोरोना के चलते ज्यादातर विवि में मेरिट प्रणाली के आधार पर दाखिले दिए जा रहें है। और यदि मेरिट की बात करें तो उत्तराखण्ड बोर्ड के नतीजे अन्य बोर्डों के मुकाबले उतने अच्छे नहीं आए है। साफ शब्दों में कहें तो उत्तराखण्ड बोर्ड में छात्रों का अंक प्रतिशत दूसरे बोर्ड के छात्रों से कम रहा है। अंक प्रतिशत कम होने के चलते उत्तराखण्ड बोर्ड के छात्रों को उच्च शिक्षा में दाखिले के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। यदि छात्रों को छूट नहीं दी तो इसका सीधा असर उनके दाखिले पर पड़ सकता है।

Advertisements