बोर्ड परीक्षा में खराब प्रदर्शन देने वाले स्कूलों पर होगी कार्रवाई

देहरादून।

उत्तराखण्ड बोर्ड परीक्षा के परिणाम आ चुके है। बोर्ड परीक्षा का परिणाम इस बार पिछले साल के मुकाबले बेहतर और औसतन रहा। परन्तु कुछ स्कूलों का परिणाम गंभीर थे। जिसे लेकर अब शिक्षा मंत्री की निगरानी में समीक्षा की जा रही है। शिक्षा मंत्री ने ऐसे स्कूल चुनने को कहा है जहां लगातार पिछले तीन साल से बोर्ड परीक्षा के परिणाम खराब रहें हो।

सूत्रों की माने तो बोर्ड परीक्षा में खराब रिजल्ट देने वाले स्कूलों के प्रधानाचार्य और शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। इनकी एक वेतन वृद्धि काटी जा सकती है।

बुधवार को सचिवालय में होने जा रही समीक्षा बैठक में फीस ऐक्ट का मसौदा भी तैयार किया जाएगा। शिक्षा मंत्री ने मंगलवार को बताया कि निजी स्कूलों में एडमिशन और फीस को नियंत्रित करने के लिए सरकार प्रयास कर रही है। बुधवार को होने वाली बैठक में इसका मसौदा तय कर दिया जाएगा। साथ ही देश-प्रदेश के महापुरुषों के जीवन की जानकारी देने के लिए सामान्य पाठ्यक्रम के साथ ही नैतिक शिक्षा की अतिरिक्त किताब लगाने पर विचार किया जा रहा है।

Advertisements