सुभारती के छात्रों को अन्य कालेजों में शिफ्ट करने की सिफारिश

नई दिल्ली।

उत्तराखंड सरकार ने सुभारती मेडिकल कालेजों के तीन सौ छात्रों को तीन सरकारी तथा दो निजी मेडिकल कालेजों में शिफ्ट करने का आग्रह किया है। उत्तराखंड मेडिकल एजुकेशन निदेशालय द्वारा नियुक्त अंतरिम कमेटी के चेयरमैन डा. नवीन चंद्र ने एएजी जेके सेठी के जरिये गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई स्थिति रिपोर्ट में कहा है कि सुभारती के मेडिकल कालेज बिल्कुल अनुपयुक्त हैं। यहां पढ़ रहे तीन सौ छात्रों को अन्य कालेजों में शिफ्ट किया जाए। इनमें तीन सरकारी मेडिकल कालेज (हल्द्वानी, श्रीनगर और देहरादून) तथा दो निजी हिमालयन मेडिकल कालेज और गुरुराम राय मेडिकल कालेज देहरादून शामिल हैं। वर्ष 2016-19 के डेढ़ सौ छात्र सरकारी में तथा वर्ष 2017-18 के डेढ़ सौ छात्रों को निजी कालेजों में भेजना उचित होगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए इन कालेजों में छात्रों की सीमा बढ़ानी पढ़ेगी, जिसके लिए एमसीआई को निर्देश देना होगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि कॉलेज में एक ही लैब में फार्मेसी और पैरा मेडिकल कोर्स के छात्रों के साथ एमबीबीएस छात्र भी पढ़ते हैं। वहीं सुभारती के कालेजों के पास जमीन का कोई टाइटल नहीं है और इनके मुकदमे सिविल कोर्ट में चल रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट सौरभ ब्राला की रिट याचिका पर विचार कर रहा है। इससे पूर्व कोर्ट ने सरकार को आदेश दिया था कि वह सुभारती मेडिकल कालेजों का अधिग्रहण कर ले।

 

Advertisements