सरकारी स्कूलों का पाठ्यक्रम बदलेग

सरकारी स्कूलों का पाठ्यक्रम बदलेग

सरकारी स्कूलों का पाट्यक्रम बदलने जा रहा है। राष्ट्रीय  शिक्षा नीति की सिफारिशों के तहत पहली से 12 वीं कक्षा तक के लिए नए सिरे से पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है। नए पाठ्यक्रम में छात्रों को उत्तराखण्ड के बारे में भी बहुत जानने को मिलेगा। राज्य के भौगोलिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, ऐतिहासिक और राजनीतिक विषयों को भी शामिल किया जाएगा। शिक्षा मंत्री डाँ. धन सिंह रावत के अनुसार आने वाले डेढ़ महीने के भीतर पाठ्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया जाएगा।
वर्तमान में राज्य में एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू है।एनसीईआरटी की किताबें राष्ट्रीय परिपेक्ष्य में होने की वजह से राज्य के बारे में जानकारियां न के बराबर हैं। एनईपी में पाठ्यक्रम के विषय में भी मानक तय किया गया है। डॉ. सिंह के अनुसार इसमें 30 प्रतिशत भाग राज्य का होगा और बाकी 70 प्रतिशत राष्ट्रीय। इस व्यवस्था से राज्य को स्थानीयता को भी पाठ्यक्रम में शामिल करने का मौका मिला है। शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अघिकारी और शिक्षा विशेष्ज्ञ संयुक्त रूप से इस राज्य स्तरीय पाठ्यक्रम को तैयार कर रहे हैं। जल्द इसे केन्द्र सरकार को भेज दिया जाएगा।

Advertisements