नेट क्वालीफाइंग के मानदंडों में यूजीसी ने किया बदलाव

नेट क्वालीफाइंग के मानदंडों में यूजीसी ने किया बदलाव

देहरादून। यूजीसी (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग) ने नेट (राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा) के क्वालिफाइंग के नियमों में इस वर्ष से बदलाव किया है। यूजीसी की ओर से जारी पत्र के मुताबिक देशभर के विश्वविद्यालयों नेट क्वालिफाई अभ्यर्थियों की संख्या काफी कम है, जिस कारण शिक्षकों की तमाम सीटें रिक्त पडी है। इसी कारण यूजीसी ने नेट क्वालिफाइंग के नियम में बदलाव किया है। नए नियमों के मुताबिक अब पेपर-1, पेपर-2, व पेपर-3 में निर्धारित अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों में से शीर्ष-छह प्रतिशत अभ्यर्थियों को क्वालिफाई माना जाएगा। इस नए नियम से जहां छात्रों को लाभ मिलेगा और नेट क्वालिफायर की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी। जबकि इससे पूर्व में पेपर-1, पेपर-2 व पेपर-3 में निर्धारित अंक प्राप्त करने वालों में से शीर्ष-15 प्रतिशत अभ्यर्थियों को क्वालिफाई करने का नियम था।