You are here: Sports / Yoga Mountaineering

Mountaineering

Mountaineering



Mountaineering describes the sport of mountain climbing. This sport is all about challenge and perseverance. This is about putting both hands and feet onto rocks or ice to reach the summit.


The goal is to reach high points of mountain regions. Mountaineering can also be called alpinism. This sport is not only climbing mountains using ice axe, crampons, cams, and ropes, but it is also about hiking steep rocky slopes, talus fields and airy ridges.


Mountaineering as a sport was developed in the United Kingdom in the 1850’s. The first mountaineering club, the Alpine Club, was founded in 1857. Most mountaineering challenges are held on, Colorado’s Fourteeners, Washington’s Mount Rainer, New York’s Adirondack Mountains, Virginia’s Shenandoah National Park, Mount Koscuizko, and Mount Kilimanjaro. The climbers must be knowledgeable about rocks and ice climbing techniques. Mountaineering is mostly a group activity. Each member should support the group’s achievement at every stage.


पर्वतारोहण या पहाड़ चढ़ना शब्द का आशय उस खेल, शौक़ अथवा पेशे से है जिसमें पर्वतों पर चढ़ाई, स्कीइंग अथवा सुदूर भ्रमण सम्मिलित हैं। पर्वतारोहण की शुरुआत सदा से अविजित पर्वत शिखरों पर विजय पाने की महत्वाकांक्षा के कारण हुई थी और समय के साथ इसकी 3 विशेषज्ञता वाली शाखाएं बन कर उभरीं हैं: चट्टानों पर चढ़ने की कला, बर्फ से ढके पर्वतों पर चढ़ने की कला और स्कीइंग की कला. तीनों में सुरक्षित बने रहने के लिए अनुभव, शारीरिक क्षमता व तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता होती है।पर्वतारोहण एक खेल, शौक या पेशा है जिसमें पर्वतों पर, चलना, लंबी पदयात्रा, पिट्ठूलदाई और आरोहण शामिल है। यूआईएए (UIAA) या यूनियन इंटरनेशनेल डेस एसोसिएशन्स डी'एल्पिनिसमे (Union Internationale des Associations d'Alpinisme), पर्वतारोहण तथा आरोहण के लिए विश्व भर में मान्य संस्था है जो पर्वतों तक जाने के रास्तों, चिकित्सा समस्यायों, बर्फ पर चढ़ाई, नवयुवक आरोही तथा पर्वत व आरोही की सुरक्षा से जुड़े अहम विषयों पर काम करती है।


ठोस बर्फ में ही पर्वतारोही के लिए पैदल चलना संभव हो पाता है। अधिक कुशल चढ़ाई के लिए पर्वतारोही अक्सर क्रैम्पोन नामक उपकरण का प्रयोग करते हैं। क्रैम्पोन उनके जूतों के साथ लगा रहता है तथा इसमें 8 से 14 दांते (स्पाइक) होते हैं। वे सख्त बर्फ के लिए बनाये जाते हैं व अतिरिक्त कर्षण प्रदान करते हैं। इससे एकदम खड़ी चढ़ाई व उतराई में सुविधा होती है। इनकी किस्मों में हल्के एल्यूमीनियम माडल हैं जो बर्फ से ढके हिमनदों पर चलने के काम आते हैं तथा इससे उच्च स्तर पर स्टील माडल हैं जो सीधी चढ़ाई व लटकती चट्टान/बर्फ पार करने में उपयोगी होते हैं। गहरी बर्फ में चलने के लिए विशेष हिम-जूतों का प्रयोग किया जा सकता है। स्की का प्रयोग उन प्रत्येक स्थानों पर किया जा सकता है जहां हिमजूतों का प्रयोग किया जाता है और इसके अतिरिक्त उनका प्रयोग सीधे व ऊँचे स्थानों पर भी किया जा सकता है। हालांकि मुश्किल मार्गों पर स्की करने के लिए उचित अभ्यास की आवश्यकता पड़ती है। सीधे व ऊँचे मार्गों पर पर्वतारोहण व स्कीइंग की कलाओं का एक साथ प्रयोग कर चढ़ाई करना और उतरना एक प्रकार का खेल है जिसे स्की पर्वतारोहण कहते हैं। बर्फ की ढलान पर सुरक्षित तरीके से चढ़ने-उतरने हेतु आरोही के लिए बर्फ की कुल्हाड़ी तथा पिछली सदी में विकसित विभिन्न पदचालन तकनीकों (जिनमें से अधिकतर यूरोप से आयीं हैं) का प्रयोग आवश्यक होता है। सबसे कम ढलान से सबसे सीधी चढ़ाई के दौरान सबसे पहले पैर को ऊंचाई की दिशा में उठाया जाता है, फिर ठोकर मारी जाती है और फिर क्रेम्पोन को आगे किया जाता है। बर्फ की कुल्हाड़ी की विधा में पहले उसको एक हाथछड़ी की तरह, फिर एक खूंटी की तरह इस्तेमाल किया जाता है, उसके बाद उसके सामने के हिस्से को कंधे के नीचे तथा ऊपर से एक चाकू के रूप इस्तेमाल किया जाता है और अंत में उसको सिर के ऊपर से घुमाकर ढलान की दिशा में फेंका जाता है। ये विभिन्न तकनीकें इस बात पर निर्भर करती हैं कि बर्फ की कुल्हाड़ी का डिजाइन कैसा है, तथा पर्वतारोही एक कुल्हाड़ी का इस्तेमाल कर रहा है कि दो का. बर्फ में रस्सियों के लिए लंगर के रूप में इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुएँ कभी-कभार अविश्वसनीय होती हैं; उनमें बर्फ की खूंटी (जिसे पिकट कहा जाता है), एल्यूमिनियम से बने डेडमैन उपकरण (जिन्हें फ्लूक कहा जाता है) शामिल होते हैं; या उन्हें दबी हुई चीजों जैसे बर्फ की कुल्हाड़ी, स्की, चट्टानें एवं अन्य वस्तुओं से भी बनाया जाता है। सख्त बर्फ से भी लंगर का निर्माण किया जा सकता है, जिन्हें बोलार्ड कहते हैं।


                                                                                                                                           



Advertisements


Poll

समस्त प्रवेश परीक्षाओं को संयुक्त रूप से केन्द्रीय स्तर पर नीट की तरह आयोजित किया जाना चाहिए?

  • हाॅ
  • नहीं
  • कह नहीं सकते