You are here: Sports / Yoga Kabaddi

Kabaddi

Kabaddi

Kabaddi is a contact sport that originated in ancient India. It is known by its regional names in different parts of the subcontinent,suchas Kapadi or"Chadukudu"in TamilNadu , Kabaddi in Karnataka, hadudu in Benal, bhavatik in Maldives, kauddi in the Punjab region and chedugudu in Andhra Pradesh.
Variations
International
In the international team version of kabaddi, two teams of seven members each occupy opposite halves of a field of 10 by 13 metres (33 ft × 43 ft) in case of men and 8 by 12 metres (26 ft × 39 ft) in case of women.Each has three supplementary players held in reserve. The game is played with 20-minute halves and a five-minute halftime break during which the teams exchange sides.
The teams take turns sending a "raider" into the other half. To win a point, the raider must take a breath, run into the opposing half, tag one or more members of the opposite team, then return to their home half before inhaling again.The raider will chant "kabaddi, kabaddi" with their exhaling breath to show the referee they have not inhaled.The raider will be declared "out" and will not gain the point if they inhale before returning to their side, or returns without touching an opponent.The tagged defender(s) will be "out" if they do not succeed in catching the raider who tagged them.Wrestling the raider to the ground can prevent them escaping before they need to inhale.
Defenders may not cross the centre line (the "lobby") of the field and the raider may not cross the boundary lines. However, there is one bonus line which can grant extra points for the raider if he manages to touch it and return successfully. Players who are out are temporarily sent off the field. Each time a player is out, the opposing team earns a point. A team scores a bonus of two points (called a "lona"), if the entire opposing team is declared out. At the end of the game, the team with the most points wins. Matches are categorised based on age and weight. Six officials supervise a match: one referee, two umpires, a scorer and two assistant scorers.
Indian
There are four major forms of kabaddi played in India which are recognised by the amateur federation. In Sanjeevani Kabaddi, one player is revived against one player of the opposite team who is out – one out. The game is played over 40 minutes with a five-minute break between halves. There are seven players on each side and the team that outs all the players on the opponent's side scores four extra points. In Gaminee style, seven players play on either side and a player put out has to remain out until all his team members are out. The team that is successful in ousting all the players of the opponent's side secures a point. The game continues until five or seven such points are secured and has no fixed time duration. Amar style resembles the Sanjeevani form in the time frame rule. But, a player who is declared out doesn’t leave the court, but instead stays inside, and the play goes along. For every player of the opposition touched ‘out,’ a team earns a point.Punjabi Kabaddi is a variation that is played on a circular pitch of a diameter of 22 metres (72 ft).


कबड्डी एक खेल है, जो मुख्य रूप से भारतीय उपमहाद्वीप मे खेली जाती है। कबड्डी नाम का प्रयोग प्राय: उत्तर भारत में किया जाता है, इस खेल को दक्षिण में चेडुगुडु और पूरब में हु तू तू के नाम से भी जानते हैं। यह खेल भारत के पड़ोसी देश नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका और पाकिस्तान में भी उतना ही लोकप्रिय है। तमिल, कन्नड और मलयालम में ये मूल शब्द, (கை-பிடி) "कै" (हाथ), "पिडि" (पकडना) का रूपान्तरण है, जिसका अनुवाद है 'हाथ पकडे रहना'। कबड्डी, बांग्लादेश का राष्ट्रीय खेल है।
साधारण शब्दों में इसे ज्यादा अंक हासिल करने के लिए दो टीमों के बीच की एक स्पर्धा कहा जा सकता है। अंक पाने के लिए एक टीम का रेडर (कबड्डी-कबड्डी बोलने वाला) विपक्षी पाले (कोर्ट) में जाकर वहां मौजूद खिलाडियों को छूने का प्रयास करता है। इस दौरान विपक्षी टीम के स्टापर (रेडर को पकड़ने वाले) अपने पाले में आए रेडर को पकड़कर वापस जाने से रोकते हैं और अगर वह इस प्रयास में सफल होते हैं तो उनकी टीम को इसके बदले एक अंक मिलता है। और अगर रेडर किसी स्टापर को छूकर सफलतापूर्वक अपने पाले में चला जाता है तो उसकी टीम के एक अंक मिल जाता और जिस स्टापर को उसने छुआ है उसे नियमत: कोर्ट से बाहर जाना पड़ता है।
खिलाडियों के पाले में आने के बाद टॉस जीतने वाली टीम सबसे पहले अपना खिलाड़ी (रेडर) विपक्षी पाले में भेजती है। यह रेडर कबड्डी-कबड्डी बोलते हुए जाता है और विपक्षी खिलाडियों को छूने का प्रयास करता है। इस दौरान वह इस बात का पूरा ख्याल रखता है उसकी सांस ना टूटे। सांस टूटने की स्थिति में उसे भागकर अपने पाले में लौटना होता और जब तक वह सांस रोके रखकर कबड्डी-कबड्डी बोल सकता है, वह अपनी चपलता का उपयोग कर विपक्षी खिलाडियों (स्टापरों) को छूने का प्रयास कर सकता है। इस प्रक्रिया में अगर वह विपक्षी टीम के किसी भी स्टापर को छूने में सफल होता है तो उस स्टापर को मरा हुआ (डेड) समझ लिया जाता है। ऐसे में उस स्टापर को कोर्ट से बाहर जाना पड़ता है। और अगर स्टापरों को छूने की प्रक्रिया में रेडर अगर स्टापरों की गिरफ्त में आ जाता है तो उसे मरा हुआ (डेड) मान लिया जाता है। यह प्रक्रिया दोनों टीमों की ओर से बारी-बारी चलती रहती है।
इस तरह से हर दल का खिलाड़ी बारी बारी से क्रम बदलते रहते हैं और अंत में जिसके दल में सब्से ज्यादा सदस्य बचे रह जाते हैं उस दल को विजेता घोषित कर दिया जाता है।
यह खेल आमतौर पर 20-20 मिनट के दो हिस्सों में खेला जाता है। हर हिस्से में टीमें पाला बदलती हैं और इसके लिए उन्हें पांच मिनट का ब्रेक मिलता है। हालांकि आयोजक इसके एक हिस्से की अवधि 10 या 15 मिनट की भी कर सकते हैं। हर टीम में 5-6 स्टापर (पकड़ने में माहिर खिलाड़ी) व 4-5 रेडर (छूकर भागने में माहिर) होते हैं। एक बार में सिर्फ चार स्टापरों को ही कोर्ट पर उतरने की इजाजत होती है। जब भी स्टापर किसी रेडर को अपने पाले से बाहर जाने से रोकते हैं उन्हें एक अंक मिलता है लेकिन अगर रेडर उन्हें छूकर भागने में सफल रहता है तो उसकी टीम को अंक मिल जाता है।


 


 

Advertisements


Poll

समस्त प्रवेश परीक्षाओं को संयुक्त रूप से केन्द्रीय स्तर पर नीट की तरह आयोजित किया जाना चाहिए?

  • हाॅ
  • नहीं
  • कह नहीं सकते