You are here: Sports / Yoga Cricket

Cricket

Cricket

Cricket is the second most popular sport in the world, only behind soccer, with over 2.5 billion followers. Cricket was invented in England and is currently played by many commonwealth countries. Cricket is played in either circular or oval shape grounds. There is a rectangular area in the middle of the ground, called the pitch, is the most important part of the field, where all the bowling and batting takes place. A set of wooden sticks, called stumps and bails, is placed on both ends of the pitch. A cricket ball; made of wood and leather, and a wooden bat are required to play the sport. Players, usually batsmen, also wear a full set of protective gear. A match is played between two teams, with 11 players on each team, in an innings format. In a match, one team gets to bat while the other team bowls and fields. The collection of all the overs that a team bats for, is called an innings. The team that bats first, tries to score as many runs as possible. After the two teams have played their innings, the team with the most runs is the winner. Cricket matches are played in two different formats, which are Limited Over format: Each innings is played for a fixed number of overs. A one-day format - 50 Overs per innings, and a T20 format - 20 overs per innings, are the two types of limited overs cricket currently played. Unlimited Overs format: More commonly known as a test match, is an extended form of cricket, where each team gets to play two innings without any overs restriction. A single match can go on up to 5 days. Several cricket matches are played all through the year in the form of tours, where one country travels to other, to plays a series in one or more formats of the sport.


क्रिकेट एक बल्ले और गेंद का दलीय खेल है जिसकी शुरुआत दक्षिणी इंग्लैंड में हुई थी। इसका सबसे प्राचीन निश्चित संदर्भ १५९८ में मिलता है, अब यह १०० से अधिक देशों में खेला जाता है। क्रिकेट के कई प्रारूप हैं, इसका उच्चतम स्तर टेस्ट क्रिकेट है, जिसमें वर्तमान प्रमुख राष्ट्रीय टीमें इंडिया(भारत), ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैण्ड, श्रीलंका, वेस्टइंडीज, न्यूजीलैण्ड, पाकिस्तान, जिम्बाब्वे व बांग्लादेश हैं।
वरीयता में टेस्ट क्रिकेट के बाद एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को गिना जाता है जिसका 2011 का क्रिकेट विश्वकप भारत ने जीता था; इस टूर्नामेंट को २०० से अधिक देशों में टेलीविजन पर दिखाया गया था और अनुमानतः २ बिलियन से अधिक दर्शकों ने देखा था। एक क्रिकेट मुकाबले में ११ खिलाड़ियों के दो दल होते हैं इसे घास के मैदान में खेला जाता है, जिसके केन्द्र में भूमि की एक समतल लम्बी पट्टी होती है जिसे पिच कहते हैं। विकेट लकड़ी से बनी होती हैं, जिसे पिच के प्रत्येक सिरे में लगाया जाता है और उसका प्रयोग एक लक्ष्य के रूप में किया जाता है। गेंदबाज क्षेत्ररक्षण टीम का एक खिलाड़ी होता है, जो गेंदबाजी के लिए एक सख्त, चमड़े की मुट्ठी के आकार की 5.5 औंस (160 ग्रा) क्रिकेट की गेंद को एक विकेट के पास से दूसरे विकेट की और डालता है, जिसे विपक्षी टीम के एक खिलाड़ी बल्लेबाज के द्वारा बचाया जाता है।
आम तौर पर गेंद बल्लेबाज के पास पहुँचने से पहले एक बार टप्पा खाती है। अपने विकेट की रक्षा करने के लिए बल्लेबाज लकड़ी के क्रिकेट के बल्ले से गेंद को खेलता है। इसी बीच गेंदबाज की टीम के अन्य सदस्य मैदान में क्षेत्ररक्षक के रूप में अलग-अलग स्थितियों में खड़े रहते हैं, ये खिलाड़ी बल्लेबाज को दौड़ बनाने से रोकने के लिए गेंद को पकड़ने का प्रयास करते हैं और यदि सम्भव हो तो उसे आउट करने की कोशिश करते हैं। बल्लेबाज यदि आउट नहीं होता है तो वो विकेटों के बीच में भाग कर दूसरे बल्लेबाज ("गैर स्ट्राइकर") से अपनी स्थिति को बदल सकता है, जो पिच के दूसरी ओर खड़ा होता है। इस प्रकार एक बार स्थिति बदल लेने से एक रन बन जाता है। यदि बल्लेबाज गेंद को मैदान की सीमारेखा तक हिट कर देता है तो भी रन बन जाते हैं। स्कोर किए गए रनों की संख्या और आउट होने वाले खिलाड़ियों की संख्या मैच के परिणाम को निर्धारित करने वाले मुख्य कारक हैं।
यह कई बातों पर निर्भर करता है कि क्रिकेट के खेल को ख़त्म होने में कितना समय लगेगा। पेशेवर क्रिकेट में यह सीमा हर पक्ष के लिए २० ओवरों से लेकर ५ दिन खेलने तक की हो सकती है। खेल की अवधि के आधार पर विभिन्न नियम हैं जो खेल में जीत, हार, अनिर्णीत (ड्रा), या बराबरी (टाई) का निर्धारण करते हैं।
क्रिकेट मुख्यतः एक बाहरी खेल है और कुछ मुकाबले कृत्रिम प्रकाश (फ्लड लाइट्स) में भी खेले जाते हैं। उदाहरण के लिए, गरमी के मौसम में इसे संयुक्त राजशाही, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका में खेला जाता है जबकि वेस्ट इंडीज, भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका और बांग्लादेश में ज्यादातर मानसून के बाद सर्दियों में खेला जाता है।
मुख्य रूप से इसका प्रशासन दुबई में स्थित अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के द्वारा किया जाता है, जो इसके सदस्य राष्ट्रों के घरेलू नियंत्रित निकायों के माध्यम से विश्व भर में खेल का आयोजन करती है। आईसीसी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेले जाने वाले पुरूष और महिला क्रिकेट दोनों का नियंत्रण करती है। हालांकि पुरूष, महिला क्रिकेट नहीं खेल सकते हैं पर नियमों के अनुसार महिलाएं पुरुषों की टीम में खेल सकती हैं।
नियम संहिता के रूप में होते हैं जो, क्रिकेट के कानून कहलाते हैं और इनका अनुरक्षण लंदन में स्थित मेरीलेबोन क्रिकेट क्लब (एम सी सी) के द्वारा किया जाता है। इसमें आई सी सी और अन्य घरेलू बोर्डों का परामर्श भी शामिल होता है।
पिच, विकेट और क्रीज़
पिच (pitch) विकेटों के बीच की लम्बाई होती है और चौड़ी होती है। यह एक समतल सतह है, इस पर बहुत ही कम घास होती है जो खेल के साथ कम हो सकती है। पिच की "हालत" मैच और टीम की रणनीति पर प्रभाव डालती है, पिच की वर्तमान और प्रत्याशित स्थिति टीम की रणनीति को निर्धारित करती है।
प्रत्येक विकेट (wicket) में तीन लकड़ी के स्टंप (stumps) होते हैं जिन्हें एक सीधी रेखा में रखा जाता है इनके ऊपर दो लकडी के बेल्स (bails) रखे जाते हैं; बेल्स सहित विकेट की कुल ऊंचाई है और तीनों स्टाम्पों की कुल चौड़ाई है .
चार लाइनें, जिन्हें क्रीज के रूप में जाना जाता है, पिच पर विकेट के चारों और पेंट की जाती हैं, ये बल्लेबाज के "सुरक्षित क्षेत्र" और गेंदबाज की सीमा को निर्धारित करती हैं। ये "पोप्पिंग" (या बल्लेबाजी) क्रीज या बालिंग क्रीज या दो "रिटर्न" क्रीज कहलाती हैं।
स्टंप को गेंदबाजी क्रीज की लाइन में रखा जाता है और इन्हें एक दूसरे से थोड़ी दूरी पर रखा जाता है। बीच वाली स्टंप को बिल्कुल केन्द्र पर गेंदबाजी क्रीज की लम्बाई में रखा जाता है पोप्पिंग क्रीज की लम्बाई समान होती है, यह गेंदबाजी की क्रीज के समांतर होती है और विकेट के सामने होती है। रिटर्न क्रीज बाकी दोनों के लम्बवत होती है; ये दोनों पोप्पिंग क्रीज के अंत से जुड़ी होती हैं और इन्हें गेंदबाजी की क्रीज के अंत तक कम से कम इसकी लम्बाई में चित्रित किया जाता है।
गेंदबाजी करते समय गेंदबाज का पिछला पैर उसकी "डिलीवरी स्ट्राइड" में दो रिटर्न क्रीजों के बीच में होना चाहिए, जबकि उसका अगला पैर पोप्पिंग क्रीज के ऊपर या उसके पीछे पढ़ना चाहिए। अगर गेंदबाज इस नियम को तोड़ता है, तो अंपायर "नो बाल" घोषित कर देता है।
बल्लेबाज के लिए पोप्पिंग क्रीज का महत्त्व यह है कि यह उसके सुरक्षित क्षेत्र की सीमा को निर्धारित करता है जब वह "अपने इस क्षेत्र से बाहर" होता है तो उसका विकेट उखाड़ दिए जाने पर वह स्टंप या रन आउट हो सकता है (नीचे Dismissals देखें)|
पिच की स्थिरता भिन्न हो सकती है जिसके कारण गेंदबाज को मिलने वाला उछाल, स्पिन और गति अलग अलग हो सकती है। सख्त पिच पर बल्लेबाजी करना आसान होता है, क्यों की इस पर उछाल ऊँचा लेकिन समान होता है। सूखी पिच बल्लेबाजी के लिए खराब मानी जाती है क्यों की इस पर दरारें आ जाती हैं और जब ऐसा होता है तो स्पिनर एक अहम भूमिका अदा कर सकता है। नम पिच या घास से ढकी पिचें (जो "हरी" पिचें कहलाती हैं) अच्छे तेज गेंदबाज को अतिरिक्त उछाल देने में मदद करती है। इस तरह की पिच पूरे मेच के दौरान तेज गेंदबाज की मदद करती है लेकिन जैसे जैसे मेच आगे बढ़ता है ये बल्लेबाजी के लिए और भी बेहतर होती जाती है।
बल्ला और गेंद
इस खेल का सार है कि एक गेंदबाज अपनी ओर की पिच से बल्लेबाज की तरफ़ गेंद डालता है जो दूसरे अंत पर बल्ला लेकर उसे "स्ट्राइक" करने के लिए तैयार रहता है।
बल्ला (bat) लकड़ी से बना होता है इसका आकर ब्लेड के जैसा होता है और शीर्ष पर बेलनाकार हेंडल होता है। ब्लेड की चौडाई से अधिक नहीं होनी चाहिए और बल्ले की कुल लम्बाई से अधिक नहीं होनी चाहिए
गेंद (ball) एक सख्त चमड़े का गोला होती है जिसकी परिधि गेंद की कठोरता जिसे से अधिक गति से फेंका जा सकता है, वो एक विचारणीय मुद्दा है और बल्लेबाज सुरक्षात्मक कपड़े पहनता है जिसमें शामिल है पेड (pads) (जो घुटनों और पाँव के आगे वाले भाग की रक्षा के लिए पहने जाते हैं), बल्लेबाजी के दस्ताने (batting gloves) हाथों के लिए, हेलमेट (helmet) सर के लिए और एक बॉक्स (box) जो पतलून के अन्दर पहना जाता है और क्रोच (crotch) क्षेत्र को सुरक्षित करता है। कुछ बल्लेबाज अपनी शर्ट और पतलून के अन्दर अतिरिक्त पेडिंग पहनते हैं जैसे थाई पेड, आर्म पेड, रिब संरक्षक और कंधे के पैड।


 


 

Advertisements


Poll

समस्त प्रवेश परीक्षाओं को संयुक्त रूप से केन्द्रीय स्तर पर नीट की तरह आयोजित किया जाना चाहिए?

  • हाॅ
  • नहीं
  • कह नहीं सकते